आवाज...

संसार एक ऐसी अबूझ पहेली, जिसकी जड़ में ही भेदभाव की निर्मम ज्वाला धधक रही है, जिसकी लपटें हमें ही नही बल्कि हमारे पुरे समाज को ध्वस्त कर रही है|
क्यूँ मैं ऐसी बोझिल बातें कर रहा हूँ जो जगजाहिर हैं ? ऐसा ही सवाल आपके मन में भी कौंध रहा होगा, परन्तु, इस सवाल का जवाब देने से पहले मैं आपको ये बता दूँ...
"मैं आसरा का एक स्थाई सदस्य हूँ|"
कहते हैं,
नाम अपने अस्तित्व का बोधक होता है| इसलिए मुझे बताने की आवश्यकता ही नहीं की आसरा क्या है | फिर भी 'आसरा' का शाब्दिक अर्थ होता है 'आश्रय'|
आश्रय उन तमाम लोगों का जिन्हें समाज ने तिरस्कृत कर अपने से अलग कर दिया है| उन्हें या तो समाज का कोढ़ मन जाता है या फिर हमारे " सभ्य समाज " की नजरों में उनका अस्तित्व नगण्य होता है|
खैर, मैं आपको एक ऐसी जगह के बारे में बता रहा हूँ जहाँ इंसानों ने इंसानियत को लांघते हुए, इंसानों के बीच ही रेखाएं खींच दी हैं|
लेप्रोसी कालोनी- देखने में एक आम गाँव की तरह - खेलते बच्चे, मुस्कुराते चेहरे...| मगर यह क्या, गाँव के किनारे ये पत्थर कैसे? पूछने पर पता चला इन्हें समाज से अलग कर दिया गया है| सुनते ही शरीर में बिजली सी दौड़ गयी| इक्कीसवी सदी और आज भी ये मानसिकता| धिक्कार है पुरे मानव जाति पर|
परन्तु जहाँ रावण होते हैं, वहीँ राम भी बसते हैं| इसी वाक्य को चरितार्थ करते हुए एक संस्था बनायीं गयी...
आसरा
...एक समाज समाज के लिए
शुरुआत हुई एक प्रयास की, मिशन था उन असहाय लोगों को समाज की मूल धारा से जोड़ना| बीड़ा उठाया समाज के सम्मानित वर्ग ने, कहते हैं,
"बच्चे के गुण पालने में ही नज़र आ जाते हैं|"
ठीक वैसे ही लोग आते गए कारवां बनता गया| आज यह प्रयास एक विशाल वृक्ष का रूप ले चुका है| मुझे खुशी है, मैं भी इस विशाल वृक्ष की एक छोटी सी टहनी हूँ, जो उन लोगों को सामाजिक भेदभाव की तेज किरणों से बचाने का काम करती है|
हम वहाँ अपना समय गुजारते हैं, उनके साथ हँसते हैं, हंसाते हैं| उनकी मुस्कुराहटों में अपनी खुशी तलाशते हैं| उन्हें जिन्दगी के नए आयामों से अवगत कराते हैं|
सच कहूँ दोस्तों कभी-कभी उतनी दूर जाने का दिल नहीं करता| परन्तु जैसे ही उन बच्चों के चेहरे सामने आते हैं, कदम स्वतः चलने को राजी हो जाते हैं|
अंत में मैं भगवान् का शुक्रगुज़ार हूँ कि उन्होंने मुझे अपने घर से इतनी दूर, नए रिश्ते दिए जिनसे हमारा कोई खून का रिश्ता तो नहीं, पर दिल उन्हें अपना मानता है|

-कुणाल

Comments